01 जनवरी, 2016

वास्तु के अनुसार घर में लगाये जाने वाले चित्र / पोस्टर




वास्तु के नकारात्मक दोषों को दूर करने के लिए वैसे तो मकान / घर की बनावट में बड़े बदलाव करने का सुझाव दिया जाता है। लेकिन आजकल की भागदौड़ की ज़िन्दगी में, जब व्यक्ति धन कमाने के लिए मारा-२ फ़िरता है; उसे अपना पुश्तैनी घर छोड़कर किराए के घर में रहना पड़ता है। चूँकि किराए के घर की बनावट में बदलाव करना किसी भी प्रकार सम्भव नहीं है; इसलिए हम छोटे-मोटे बदलावों / सुझावों और घर के सामानों की जगह बदलकर घर की नकारात्मक ऊर्जा को कम कर सकते हैं। एक सरलतम उपाय घर को विभिन्न प्रकार के चित्रों से सजाना भी है; ये चित्र भी घर की नकारात्मक ऊर्जा को काफ़ी हद तक कम कर देते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि इन चित्रों को लगाने के भी कई नियम / कायदे हैं, जिनके लिए आपको अपनी पसन्द को एक तरफ़ रखना पड़ सकता है। .. :((


किराए के घर की बनावट में वास्तु के अनुसार बदलाव करना मुश्किल होता है!


आज के इस लेख में हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि घर के किस हिस्से में आपको किस प्रकार के चित्र / पोस्टर लगाने चाहिए : -

 

घर के विभिन्न हिस्सों में लगाये जाने वाले चित्र


१.    घर के ईशान कोंण (उत्तर-पूर्व दिशा) साफ़-सुथरा रखें एवं वहाँ बहते हुए पानी या जल-स्रोत का चित्र लगाएँ।

२.    अगर आपको अपनी या अपने किसी परिजन की तस्वीर लगानी है, तो उसे उत्तर या पूर्व दिशा में लगाना चाहिए।

३.    ईशान कोंण या पूर्व दिशा में शौचालय होने पर उसके बाहर शिकार करते हुए शेर का चित्र लगाएँ।

४.    घर में एक नाचते हुए गणेश जी की तस्वीर अवश्य होनी चाहिए।

५.    स्वर्गीय परिजनों की तस्वीर दक्षिण दीवार पर लगाने से सुख-समृद्धि बढ़ती है।

६.    विभिन्न मंगल-कारक प्रतीक चिन्हों जैसे; स्वस्तिक, मंगल-कलश, ॐ, ७८६, क्रॉस आदि की तस्वीरें घर में अवश्य होनी चाहिए।

७.    घर की दीवारों पर अगर कोई दरार हो, तो उसे झरने या पर्वत के पोस्टर से ढँक देना चाहिए; अन्यथा घर के लोगों को जोड़ों का दर्द, गठिया, सियाटिका, गर्दन व पीठ का दर्द होने की संभावना बनी रहती है।



अकालग्रस्त, सूखे पेड़ या नकारात्मक ऊर्जा वाला कोई चित्र घर में ना लगाएँ!


 

पूजा-घर में किन चित्रों से सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करें


१.    दो से ज्यादा अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित देवी-देवताओं के चित्र पूजा-घर में नहीं लगाने चाहिए।

२.    पूर्वजों की तस्वीर कभी भी देवी-देवताओं के चित्रों के साथ ना लगाएँ। मंदिर में तो उन्हें बिल्कुल नहीं रखना चाहिए।

 

 

बुद्धि एवं आत्मविश्वास को बढ़ाने वाले चित्र


१.    कैरियर में सफ़लता के लिए उत्तर-दिशा में जंपिंग-फ़िश, डॉल्फ़िन या मछलियों के जोड़े के चित्र लगाने चाहिए; इससे व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता भी बढ़ती है।

२.    निराश, आलस्य से परिपूर्ण तथा आत्मविश्वास की कमी अनुभव करने वाले व्यक्तियों को अपने शयन-कक्ष की पूर्वी दीवार पर उगते सूर्य की ओर क्रमबद्ध उड़ते हुए पक्षियों के चित्र लगाने चाहिए, इससे उनमें एक नवीन ऊर्जा का संचार होगा।

३.    अगर मन बहुत ही ज्यादा अशांत हो, तो अपने घर के ईशान कोंण (उत्तर-पूर्व दिशा) में ध्यान-मग्न बगुले का चित्र लगाना चाहिए।

४.    बच्चों के अध्ययन-कक्ष में माँ सरस्वती, पुस्तक, हंस, वीणा व महापुरुषों के चित्र अवश्य लगाने चाहिए।

 

 

रसोई-घर में कौन से चित्र लगाएँ


१.    घर में धन-धान्य की कमी ना हो, इसलिए रसोई-घर में माँ-अन्नपूर्णा का चित्र लगाना चाहिए।

२.    रसोई-घर यदि आग्नेय-कोंण (दक्षिण-पूर्व दिशा) में नहीं हो, तो रसोई-घर के आग्नेय-कोंण में यज्ञ करते हुए ऋषि-मुनियों के चित्र लगाने चाहिए।



देवी-देवताओं के चित्र बेडरूम में बिल्कुल नहीं लगाने चाहिए!


 

बेडरूम को सुशोभित करने वाले चित्र


१.    बेडरूम में नाचते हुए मोर का चित्र लगाने से वैवाहिक-जीवन में स्थिरता और खुशहाली आती है।

२.    पति-पत्नी के कमरे में पूजा-स्थल होना पूर्णतया निषिद्ध है; यहाँ तक कि देवी-देवताओं की तस्वीरें भी नहीं लगानी चाहिए। परन्तु राधा-कृष्ण और रासलीला की तस्वीरें लगाने से दाम्पत्य-सुख में वृद्धि होती है।

३.    सोने का कमरा आग्नेय कोंण (दक्षिण-पूर्व दिशा) में हो, तो पूर्वी दीवार में समुद्र का पोस्टर लगाना चाहिए।

 

 

चित्र लगाने सम्बन्धित कुछ अन्य नियम


१.    युद्ध से सम्बन्धित, अकाल-ग्रस्त, सूखे-पेड़ या रोते हुए बच्चे का कोई भी चित्र घर में कहीं नहीं होना चाहिए।

२.    क्रोध, वैराग्य, डर या दु:ख की भावना को दर्शाने वाला कोई चित्र भी घर में ना लगाएँ।



हम्म्म्..... अब आप सोचिए कि आपको इनमें से कौन-२ से चित्र लगाने हैं। हमारा काम तो पूरा हुआ। कुछ नई जानकारियों के साथ फ़िर मिलते हैं। विदा..!

                                                                               
                                                                                 शुभेच्छा सहित
                                                                                       गायत्री


                                                  **********

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें